रातों का मंज़र ‪‎अज़ीब‬ लगता है……
साया तेरी यादों का करीब लगता है,

लहरें आकर वापिस हो जाती है,
वो साहिल ‪‎तन्हा‬ अज़ीब लगता है.

उसको ‪‎यादों‬ की कीमत का पता है,
तभी तो वो दिल का ‪‎मरीज़‬ लगता है.

वो ‪‎सनम‬ मायूस है तो क्या हुआ,
फिर भी वो मेरा ‪‎हबीब‬ लगता है…
 —

Raaton Ka Manzar ‪Azeeb‬ Lagta Hai
Saya Teri Yaadon Ka Kareeb Lagta Hai,

Lahrein Aakar Waapis Ho Jaati Hai
Woh Sahil ‪Tanha‬ Azeeb Lagta Hai

Usko ‪‎Yaadon‬ Ki Keemat Ka Pata Hai
Tabhi Toh Woh Dil Ka Mareez‬ Lagta Hai

Woh ‪‎Sanam‬ Maayus Hai Toh Kya Hua
Fir Bhi Woh Mera habeeb‬ Lagta Hai…

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

six − 3 =