बेस्ट गुलज़ार शायरी 2 लाइन – Gulzar Shayari in Hindi Quotes – 2 Lines

गुलज़ार साहब ने बहुत ही बेहतरीन शायरियां लिखीं हैं जिनमे से कुछ शायरियां बहुत ही सरल होते हैं तो कुछ बहुत ही गहरे। आज हम आपके लिए ऐसे ही दो लाइन गुलज़ार शायरी लेकर आये हैं जो की बहुत ही बेहतरीन हैं और आपको जरुर पसंद आयेंगे। इसे आप अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करें।

गुलज़ार शायरी दो लाइन – Gulzar Quotes in Hindi

बहुत अंदर तक जला देती है,

वो शिकायतें जो बयाँ नही होती

Bahut Andar Tak Jala Deti Hai,

Vo Shikaayaten Jo Bayaan Nahee Hoti

जब भी ये दिल उदास होता है

जाने कौन आस-पास होता है

Jab Bhee Ye Dil Udaas Hota Hai Jaane Kaun Aas-paas Hota Hai

आदतन तुम ने कर दिए वादे

आदतन हम ने एतिबार किया

Aadatan Tum Ne Kar Die Vaade

Aadatan Ham Ne Etibaar Kiya

वो चीज़ जिसे दिल कहते हैं,

हम भूल गए हैं रख के कहीं

Wo Chiz Jise Dil Kahate hain,

Hum Bhool Gaye hain Rakh ke Kahin

बहुत मुश्किल से करता हूँ, तेरी यादों का कारोबार,

मुनाफा कम है, पर गुज़ारा हो ही जाता है

– Gulzar Sahab

Bahut Mushkil Se Karata Hoon, Teree Yaadon Ka Kaarobaar,

Munaapha Kam Hai, Par Guzaara Ho Hee Jaata Hai

बेहिसाब हसरते ना पालिये

जो मिला हैं उसे सम्भालिये

Behisaab Hasarate Na Paaliye

Jo Mila Hain Use Sambhaaliye

सुनो… ज़रा रास्ता तो बताना.

मोहब्बत के सफ़र से, वापसी है मेरी..

Suno… Zara Raasta To Bataana

Mohabbat Ke Safar Se, Vaapasee Hai Meri..

बिगड़ैल हैं ये यादे देर रात को टहलने निकलती हैं

Bigadail Hain Ye Yaade Der Raat Ko Tahalane Nikalatee Hain

कभी तो चौंक के देखे कोई हमारी तरफ़

किसी की आँख में हम को भी इंतिज़ार दिखे

Kabhee To Chaunk Ke Dekhe Koee Hamaaree Taraf

Kisee Kee Aankh Mein Ham Ko Bhee Intizaar Dikhe

Gulzar Shayari in Hindi 2 Lines

Gulzar Quotes 2 line

बचपन में भरी दुपहरी में नाप आते थे पूरा मोहल्ला

जब से डिग्रियां समझ में आयी पांव जलने लगे हैं  – गुलज़ार साहब

Bachapan Mein Bharee Dupaharee Mein Naap Aate The Poora Mohalla

Jab Se Digriyaan Samajh Mein Aayee Paanv Jalane Lage Hain

तुझे पहचानूंगा कैसे? तुझे देखा ही नहीं

ढूँढा करता हूं तुम्हें अपने चेहरे में ही कहीं

Tujhe Pahachaanoonga Kaise? Tujhe Dekha Hee Nahin

Dhoondha Karata Hoon Tumhen Apane Chehare Mein Hee Kaheen

कुछ जख्मो की उम्र नहीं होती हैं ताउम्र साथ चलते हैं,

जिस्मो के ख़ाक होने तक

Kuchh Jakhmo Kee Umr Nahin Hotee Hain Taumr Saath Chalate Hain, Jismo Ke Khaak Hone Tak

ज्यादा कुछ नहीं बदलता उम्र के साथ बस बचपन की जिद्द समझौतों में बदल जाती हैं

Jyaada Kuchh Nahin Badalata Umr Ke Saath Bas Bachapan Kee Jidd Samajhauton Mein Badal Jaatee Hain

गुलज़ार की दर्द भरी शायरी – Gulzar Sad Sayari in Hindi

Gulzar shayari in Hindi

 हम तो समझे थे कि हम भूल गए हैं उनको

क्या हुआ आज ये किस बात पे रोना आया

Ham To Samajhe The Ki Ham Bhool Gae Hain Unako

Kya Hua Aaj Ye Kis Baat Pe Rona Aaya

आज हर ख़ामोशी को मिटा देने का मन है

जो भी छिपा रखा है मन में लूटा देने का मन है..

Aaj Har Khaamoshee Ko Mita Dene Ka Man Hai

Jo Bhee Chhipa Rakha Hai Man Mein Loota Dene Ka Man Hai..

शाम से आँख में नमी सी है

आज फिर आप की कमी सी है

Shaam Se Aankh Mein Namee See Hai

Aaj Phir Aap Kee Kamee See Hai

Two Line Gulzar Shayari in Hindi

two line gulzar shayari

उसने कागज की कई कश्तिया पानी में उतारी और

ये कह के बहा दी कि समन्दर में मिलेंगे

Usane Kaagaj Kee Kaee Kashtiya Paanee Utaaree Aur

Ye Kah Ke Baha Dee Ki Samandar Mein Milenge

छोटा सा साया था, आँखों में आया था

हमने दो बूंदों से मन भर लिया

Chhota Sa Saaya Tha, Aankhon Mein Aaya Tha

 Hamane Do Boondon Se Man Bhar Liya

एक बार तो यूँ होगा, थोड़ा सा सुकून होगा

ना दिल में कसक होगी, ना सर में जूनून होगा

Ek Baar To Yoon Hoga, Thoda Sa Sukoon Hoga

Na Dil Mein Kasak Hogee, Na Sar Mein Joonoon Hoga

कौन कहता है की हम झूठ नहीं बोलते

एक बार तुम खेरियत पूछ कर तो देखो

Kaun Kahta Hai KiHum Jhuth Nahi Bolte

Ek Baar Tum KheriyatPuch Kar To Dekho

तुझे पहचानूंगा कैसे? तुझे देखा ही नहीं

ढूँढा करता हूं तुम्हें अपने चेहरे में ही कहीं

Tujhe Pechanoonga Kaise? Tujhe Dekhaa Hi Nahi!

Dhoondhaa Karta Hoon Tumhen, Apne Chehare Men Kahin

सहम सी गयी है ख्वाइशे

ज़रूरतों ने शायद उन से

ऊँची आवाज़ में बात की होगी

Saham Si Gayi Hai Khawaishe

Zarurato Ne Shayad Un Se

Unchi Aawaz Me Baat Ki Hogi

वक्त रहता नहीं कही भी टिक कर,

आदत इसकी भी इंसान जैसी है

Waqt Rahta nhi Kahi bhi Tik karAadat Iski bhi Insan Jaisi hai

हमें उम्मीद है आपको Gulzar Shayari in Hindi Quotes पसंद आई होगी। आपको ये गुलज़ार की शायरी कैसी लगी हमें जरुर बताएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

thirteen − 5 =